banner goes here

शनि की साढ़ेसाती से बचने के अति प्रबल उपाय

Browse By

Your Ad Here
banner goes here

शनि साढ़ेसाती




शनि की साढ़ेसाती मे महिला या पुरुष को मानसिक तनाव क्लेश हो जाना बने हुए काम बिघड़ जाना बुद्धि मे विकार आ जाना. बच्चो के बारे मे परेशानी होना. ऐसे कई प्रकार से विघ्न साड़ेसाती की वजह से आती है.

भगवान शनि के उपाय लाल किताब के टोटके 

अगर आपको शनि साढ़ेसाती का निवारण करना है . तो आपको 1/4 किलो काले चने लेकर उनको लोहे की नयी बाल्टी में डालकर उस बाल्टी को पानी से भर दे.
आपको ये सब क्रिया शुक्रवार के रात को करनी है और शनिवार की सुबहा पानी वाली बाल्टी में अपनी प्रतिमा आईने की तरह देखे .
वो पानी घर के बाहर या आस पास वाले पीपल के पेड़ पर डाल दे .
चनो को बहुत ही शुद्ध पानी में 1 मुट्ठी मे लेकर ” सूर्य पुत्राय नम:” कहकर प्रवाहित करदे . जब तक चने ख़तम नही होते इसी प्रयोग का ईस्तमाल करे और वो बाल्टी किसी शनि देवता के दान मागने वाले को १-१/४ किलो सरसों का तेल डालकर, कुछ सिक्के उसमे डालकर दान करदे. इससे आपको भगवान शनि को खुश कर सकते हो और आपका शनि का प्रभाव भी दूर हो जाएगा.

भगवान शनि की कृपा प्राप्त करने के लिए टोटके
शनि के दोष दूर करने के लिए और भगवान शनि को खुश करने के टोटके लिए .
आपको27 किलो गुलाब जामुन पर एक लौंग फूल वाली चोभोकर किसी भी शनिवार को जमुना नदी में प्रवाहित कर दे. इसको करने से भगवान शनि देव प्रसन्न हो जाएँगे.


कैसे करे भगवान शिव को प्रसन्न

शनि की साड़ेसाती का राशियों पर साढ़ेसाती का प्रभाव
साड़ेसाती का प्रथम चरण – वृ्षभ,धनु, सिंह राशियों के लिये शनि की साड़ेसाती कष्टकारी होता है.
साड़ेसाती का दूसरा चरण – कर्क,वृ्श्चिक,मेष, सिंह और मकर राशि के लिये ये समय ठीक नहीं होता.
साड़ेसाती का अन्तिम चरण– कर्क,मिथुन, तुला, वृ्श्चिक, और मीन राशि के लिये ख़ासकर कष्टकारी समय माना गया है.