Browse By

धन हानि पर नियंत्रण पाने का अचूक व प्रबल उपाय

धन हानि (Money loss)

1.   यदि किसी व्यक्ति के घर में बार – बार धन की हानि हो रही हैं. तो उस व्यक्ति को धन की हानि होने से रोकने के लिए रवीवार के दिन इस उपाय को करना चाहिए. धन की हानि को रोकने के लिए रवीवार को अपने मुख्य द्वार पर गुलाल का छिडकाव करें. इसके बाद एक दो मुख वाला दीपक लें और उसमें शुद्ध घी डालकर इसे जला दें. अब इस दिए को मुख्य द्वार पर एक ओर रख दें और मन में ही यह कामना करें कि “ हे ईश्वर मुझे भविष्य में किसी भी प्रकार की धन हानि का सामना न करना पड़ें.” जब दीपक शांत हो जाएँ तो इसे उठा कर जल में प्रवाहित कर दें. इस उपाय को करने से आपकी घर की आर्थिक स्थिति सुधर जायेगी और आपको अतिरिक्त धन की हानि का भी सामना नहीं करना पड़ेगा.
2.   यदि किसी व्यक्ति को लगातार धन हानि का सामना करना पड रहा हैं. तो इस स्थिति से बचने के लिए अपने हाथ में काला तिल ले लें और इसे अपने घर के सभी सदस्यों के सिर पर से वार दें. इसके पश्चात् तिल को अपने घर से बाहर उत्तर दिशा में फेंक दें. इस उपाय को करने के बाद आपके धन की हानि होना बंद हो जायेगी.
3.   घर की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए आप अपने घर में एक मोर का पंख भी रख सकते हैं. इसके अलावा यदि आप अपने घर में हमेशा एक सोने का वर्गाकार सिक्का रखें और रोजाना कुत्ते को दूध दें तो भी आपके घर की आर्थिक स्थिति ठीक हो जायेगी और आपको धन लाभ के अवसर प्राप्त होंगें.
4.   यदि किसी व्यक्ति के घर में पैसों का अभाव हो. जिसके कारण वह अपने जीवन की मुलभुत जरूरतें भी पूरी नहीं कर पा रहा हैं तो इस समस्या से बाहर निकलने के लिए हर मंगलवार को 11 पीपल के पत्ते लें और इन्हें गंगाजल से अच्छी तरह धो लें. इसके बाद लाल चन्दन लें और हर पत्ते पर चन्दन से राम का नाम 7 बार लिख दें. सभी पत्तों पर राम का नाम लिखने के बाद इन पत्तों को हनुमान जी के मंदिर में ले जाएँ और इन्हें हनुमान जी की मूर्ति के सामने चढ़ा दें. इसके बाद हनुमान जी की प्रतिमा के समक्ष बैठकर राम जी के नाम का जाप अपनी सामर्थ्य शक्ति के अनुसार करें. जाप समाप्त करने के बाद हनुमान चालीसा पक्तियां – जय जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करो गुरू देव की नांई
लगातार सात मंगलवार तक इस उपाय को करने के बाद आपके जीवन में आकस्मात ही ऐसी परिस्थितियां बन जाएँगी. जिससे आपको शीघ्र ही धन लाभ होगा. इस उपाय को करते समय यह ध्यान अवश्य रखें कि इस उपाय का जिक्र किसी अन्य व्यक्ति से बिल्कुल न करें.
5.   आर्थिक संकट से निजात पाने के लिए भारत के चारों वेदों में से सबसे पुराने वेद ऋग्वेद में एक बहुत ही शक्तिशाली व प्रभावी मन्त्र बताया गया हैं. जोकि निम्नलिखित हैं.
मन्त्र –

`ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि। ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।।´

इस मन्त्र का अर्थ यह हैं कि “ हे लक्ष्मीपते आप दानी हैं, साधारण दानदाता ही नहीं बहुत बड़े दानी हैं. आप्तजनों से सुना हैं कि संसार भर से जो याचक निराश होकर आपसे जो प्रार्थना करता हैं उसकी पुकार सुनकर, उसे आप आर्थिक कष्टों से मुक्त कर देते हैं – उसकी झोली भर देते हैं. हे भगवान मुझे इस अर्थ संकट से मुक्त करें. यदि आप इस मन्त्र का उच्चारण कर इसी भांति भगवान के समक्ष प्रार्थना करेंगे तो आपको हमेशा – हमेशा के लिए अर्थ संकट से मुक्ति मिल जायेगी.
6.   आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने के लिए निम्नलिखित मन्त्र की 5 माला का जाप प्रतिदिन भगवान श्री विष्णु जी के सामने बैठकर करें. आपके धन में वृद्धि होगी.
 

मन्त्र – 

“ॐ क्लीं नन्दादि गोकुलत्राता दाता दारिद्र्यभंजन।

सर्वमंगलदाता च सर्वकाम प्रदायक:। श्रीकृष्णाय

नम:।।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *