Browse By

बस एक दीपक जलाने से शिवजी दूर करते हैं निर्धनता – शिवपुराण में वर्णित अचूक उपाय



शिवपुराण में एक ऐसा शास्त्र है, जिसमें शिवजी और सृष्टि के
निर्माण से जुड़ी रहस्यमयी बातें बताई गई हैं। इस पुराण में कई
चमत्कारी उपाय भी बताए गए हैं, जो हमारे जीवन की धन
संबंधी समस्याएं को तो खत्म करते हैं। साथ ही, अक्षय पुण्य
भी प्रदान करते हैं। इन उपायों से पिछले पापों का नाश होता
है और भविष्य सुखद बनता है।
—————
यदि आप भी शिवजी की कृपा से धन संबंधी समस्याओं से
छुटकारा पाना चाहते हैं तो यहां बताया गया आसान और
उपाय रोज रात को करना चाहिए, यह उपाय शिव पुराण में
बताया गया है…
शिवलिंग के पास रोज रात को लगाएं दीपक
पुराने समय से ही कई ऐसी परंपराएं प्रचलित हैं, जिनका पालन
करने पर व्यक्ति को सभी सुखों की प्राप्ति होती है। इन
प्रथाओं का पालन न करने पर कई समस्याओं का सामना
करना पड़ता है। शुभ फलों की प्राप्ति के लिए एक परंपरा है
कि प्रतिदिन रात्रि के समय शिवलिंग के समक्ष दीपक
लगाना चाहिए। इस उपाय के पीछे एक प्राचीन कथा बताई
गई है।
***********************
कथा :-
कथा के अनुसार प्राचीन काल में गुणनिधि नामक व्यक्ति
बहुत गरीब था और वह भोजन की खोज में लगा हुआ था। इस
खोज में रात हो गई और वह एक शिव मंदिर में पहुंच गया।
गुणनिधि ने सोचा कि उसे रात्रि विश्राम इसी मंदिर में कर
लेना चाहिए। रात के समय वहां अत्यधिक अंधेरा हो गया। इस
अंधकार को दूर करने के लिए उसने शिव मंदिर में अपनी कमीज
जलायी थी। रात्रि के समय भगवान शिव के समक्ष प्रकाश
करने के फलस्वरूप से उस व्यक्ति को अगले जन्म में देवताओं के
कोषाध्यक्ष कुबेर देव का पद प्राप्त हुआ।
इस कथा के अनुसार ही शाम के समय शिव मंदिर में दीपक लगाने
वाले व्यक्ति को अपार धन-संपत्ति एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति
होती हैं। अत: नियमित रूप से रात्रि के समय किसी भी
शिवलिंग के समक्ष दीपक लगाना चाहिए। दीपक लगाते समय
ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जप करना चाहिए।
शिवजी के पूजन से श्रद्धालुओं की धन संबंधी समस्याएं भी दूर
हो जाती हैं। शास्त्रों में एक अन्य सटीक उपाय बताया गया
है जिसे नियमित रूप से अपनाने वाले व्यक्ति अपार धन-
संपत्ति प्राप्त हो सकती है। इस उपाय के साथ ही प्रतिदिन
सुबह के समय शिवलिंग पर जल, दूध, चावल आदि पूजन सामग्री
अर्पित करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *